Best Pregnancy tips in hindi month by month

0
95
pregnancy-tips-in-hindi-month-by-month
pregnancy-tips-in-hindi-month-by-month

आप सबके लिए pregnancy tips in hindi month by month,pregnancy care tips in hindi month by month,pregnancy care tips month by month in hindi.

प्रेग्नेंसी हर स्त्री के लिए एक खास समय होता है । प्रेगनेंसी के समय हर महिला के शरीर के साथ-साथ उसके मन और मस्तिष्क में भी कईं तरह के बदलाव आना शुरू हो जाते हैं। हर स्त्री के लिए यह समय विशेष होने के साथ-साथ बहुत नाज़ुक भी होता है, इसलिए इस समय पर खास ध्यान रखने की आवश्यकता होती है ।इस पोस्ट में आपको pregnacy tips in hindi month by month की पूरी जानकारी मिलेगी |

एक प्रेग्नेंट महिला के अंदर बहुत से सवाल चलते रहते हैं कि हमें किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, हमें क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए इन सभी सवालों के जवाब देने के लिए हम कुछ टिप्स लेकर आए हैं |

pregnancy-tips-in-hindi-month-by-month
pregnancy-tips-in-hindi-month-by-month

Also Read This :Superfood: Best Food for Women’s health in India

Pregnancy Tips: Fitness tips every pregnant woman should know so

पहली तिमाही (1 से 12 हफ्ते) Pregnancy tips in hindi month by month :-

अगर आप प्रेग्नेंट है तो प्रेग्नेंसी की पुष्टि के बाद सबसे पहले डॉक्टर से सुझाव या परामर्श लें ।

आपके गर्भ में पल रहे बच्चे के स्वास्थ्य का पता लगाने के लिए जन्म से पहले कुछ अलग-अलग टेस्ट द्वारा जांच की जानी चाहिए ।

अपनी रेगुलर जांच अवश्य करवाएं ।

पौष्टिक भोजन ,दूध,फल और हरी सब्जियों का इस्तेमाल करें और 8-10 गिलास रोज़ पानी पिएं |

एक बार जब आप प्रेग्नेंसी के तीन महीने पूरे कर लें, तो परिवार और दोस्तों को खुशखबरी सुनाने की योजना बनाएं ।

अगर आपको थकावट,महसूस होती है तो उससे निपटने के लिए अपने काम के समय को कम करें ।

मॉर्निंग सिकनेस या सुबह महसूस होने वाली कमज़ोरी पहली तिमाही के अंत में या अधिकतर 16 वें हफ्ते तक ठीक हो जाती है ।

अपने डॉक्टर द्वारा बताए गए सभी विटामिन और मेडिसिन को समय से लेना शुरू करें ।

travelling करते समय अपनी पीठ के निचले हिस्से का खास ध्यान रखें ।

बाहर जाते समय ऊबड़-खाबड़ रास्तों से बचें ।

पीठ के निचले हिस्से में दिक्कतें आना एक आम सी बात हैं जिन्हें आप आराम करके कम कर सकते हैं ।

प्रेगनेंसी में यह बहुत आवशयक है की आप हेल्दी डाइट यानि स्वस्थ आहार फॉलो करें ।

अगर आप ब्लड प्रेशर और शुगर जैसी समस्या से ग्रसित हैं तो इसके लेवल को नियंत्रण में रखने के लिए अपनी नियमित सैर शुरु करें ।

यदि आप अपने शारीर में किसी तरह का असामान्य बदलाव महसूस करते हैं, तो अपने डॉक्टर से बात करें ।

2) दूसरी तिमाही प्रेग्नेंसी की देखभाल के टिप्स :- Pregnancy tips in hindi month by month

अपनी आने वाली अपॉइंटमेंट date का हमेशा धयान रखें और अपने हेल्थ के बारे में अपने डॉक्टर से चर्चा करें ।

आपको डॉक्टर द्वारा 18 से 20 वें हफ्ते के बीच होने वाले एनोमली स्कैन के लिए सलाह दी जाएगी ।

जन्म से पूर्व होने वाले व्यायाम सेमिनारों का पता लगाएं और attend करने की कोशिश करें । ये सेमिनार महिलाओं के लिए प्रसव से पूर्व व्यायाम करना और दूसरी गर्भवती महिलाओं के साथ रिश्ता बनाने और उनका साथ पाने का एक बेहतर तरीका है एक दुसरे के साथ अपने experience भी share करें |

डॉक्टर की सलाह से अपने शुगर लेवल की रेगुलर जांच करवाएं और गर्भावधि तक अपनी डायबिटीज़ को नियंत्रण में रखें ।

ऐसे कपड़ों का चयन करें जो आरामदायक हों comfertable मैटरनिटी कपड़ों की खरीदारी शुरू करें ।

लाइव म्यूजिक कॉन्सर्ट, मूवी आदि में भाग लेकर सप्ताह के अंत में आराम करने की कोशिश करें ।

पेट पर खुजली होना एक आम बात है इसको कम करने के लिए अपने पेट को मॉइस्चराइज करना शुरू करें ।

कभी भी पीठ के बल न लेटे हमेशा करवट लेकर सोयें |

पैर में ऐंठन, बेचैनी, पीठ में दर्द और नींद न आने की हालत में डॉक्टर से परामर्श करें |

प्रेग्नेंसी के दौरान दांतों की देखभाल भी आवश्यक होती है ।

3) तीसरी तिमाही प्रेग्नेंसी देखभाल के सुझाव :- Pregnancy tips in hindi month by month

अस्पताल या बर्थिंग सेंटर के लिए अपनी सभी ज़रूरत के सामान का एक बैग पैक करें ।

अस्पताल के लिए (नर्सिंग ब्रा, नाइटगाउन, बेबी कपड़े, ) और घर पर (डायपर, आदि) इन वस्तुओं की खरीदारी शुरू करनी चाहिए ।

यदि आप अचानक अनुभव करते हैं कि आपका वज़न अधिक तेजी से बढ़ रहा है या सिरदर्द के साथ चेहरे और हाथ में सूजन आ रही है, तो तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह करें ।

यदि आप अधिक थकन महसूस कर रहें हैं तो आराम करें और अच्छी नींद लें अच्छी सेहत के लिए नींद पूरी करें ।

प्रेग्नेंसी के दौरान रोज़ 8-10 गिलास पानी पिए ताकि आप पूरी तरह से हाइड्रेटेड रहें |

जैसे-जैसे आपका शिशु गर्भ में बढ़ता है,तो आपके अंग सिकुड़ जाते हैं और ऊपर की ओर खिंच जाते हैं, जिससे हार्टबर्न और एसिड रिफ्लक्स के लक्षण बहुत मजबूत हो जाते हैं । इससे निपटने के लिए, दिन के दौरान कई बार थोड़ा-थोड़ा भोजन खाने की कोशिश करें ।

पूरी प्रेगनेंसी के दौरान ये आवश्यक होता है की आप प्रेगनेंसी के दौरान तनावमुक्त रहें और जितना हो सके खुश रहने की कोशिश करें |

यह एक बेहद खास समय होता है और यह इसमें सभी ज़रुरी डॉक्यूमेंटेशन को file करके रखें ताकि ज़रूरत पड़ने पर आप आसानी से इन्हें pick कर सकें |

डॉक्टर आपको प्रेग्नेंसी के दौरान इन सभी बातों का पालन करने की सलाह देते हैं ताकि आपकी प्रेग्नेंसी पूरी तरह से सुरक्षित और आरामदायक रहे |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here